Important News

Upcoming events

  • 7 दिसम्बर 2017
  • 14 दिसम्बर 2017
  • 15 दिसम्बर 2017
  • 16 दिसम्बर 2017
  • 17 दिसम्बर 2017

7 दिसम्बर 2017

7 दिसम्बर 2017

वन्दे मातरम्

प्रात: 10 बजे

रामलीला मैदान
कविनगर, ग़ाज़ियाबाद

स्कूल व कॉलेज के विद्यार्थियों एवं जन-सामान्य की बड़ी संख्या की उपस्थिति में देशभक्ति पूर्ण कार्यक्रम

14 दिसम्बर 2017

14 दिसम्बर 2017

प्रकृतिं वन्दन

प्रात: 11:30 बजे

प्रतीकात्मक - वन एवं वन्य जीवों कं संरक्षण (गाय). पारिस्थितिकी संतुलन (वृक्ष). पर्यावरण का पोशण (गंगा) अर्थात गोो - गी-गंगा -वृक्ष पूजन

प्रदर्शनी उदृघाटन

दोपहर 3:00 बजे

सामाजिक व धार्मिक संस्थाओँ (NGO) द्वारा चलने वाले संवा कार्या की प्रदर्शनी का उदृघाटन

मेला उदृघाटन

सायं 4:30 बजे

मैले का भव्य उदृघाटन कार्यक्रम

उपस्थिति - विविध क्षेत्रों कं गणमान्य जन, समाज के प्नयुद्धजन

उदबोधन - प्रख्यात संतजन व हरा वृहद आयोजन के मार्गदर्शक

सांस्कृतिक कार्यकर्म

सायं 7:30 बजे

ध्रुव संस्कूत्त बैण्ड द्वारा बिभिन्न लोकप्रिय गानों की देववाणी संरक्त में अनुवादित मूल लय एवं परम्परागत वाथो के साथ स्पन्दित का देने याला रोचक कार्यक्रम

15 दिसम्बर 2017

15 दिसम्बर 2017

प्रकृतिं वन्दन

प्रात: 11:30 बजे

प्रतीकात्मक - वन एवं वन्य जीवों कं संरक्षण (गाय). पारिस्थितिकी संतुलन (वृक्ष). पर्यावरण का पोशण (गंगा) अर्थात गोो - गी-गंगा -वृक्ष पूजन

प्रदर्शनी उदृघाटन

दोपहर 3:00 बजे

सामाजिक व धार्मिक संस्थाओँ (NGO) द्वारा चलने वाले संवा कार्या की प्रदर्शनी का उदृघाटन

मेला उदृघाटन

सायं 4:30 बजे

मैले का भव्य उदृघाटन कार्यक्रम

उपस्थिति - विविध क्षेत्रों कं गणमान्य जन, समाज के प्नयुद्धजन

उदबोधन - प्रख्यात संतजन व हरा वृहद आयोजन के मार्गदर्शक

सांस्कृतिक कार्यकर्म

सायं 7:30 बजे

ध्रुव संस्कूत्त बैण्ड द्वारा बिभिन्न लोकप्रिय गानों की देववाणी संरक्त में अनुवादित मूल लय एवं परम्परागत वाथो के साथ स्पन्दित का देने याला रोचक कार्यक्रम

16 दिसम्बर 2017

16 दिसम्बर 2017

मातृ सम्मलेन

दोपहर 1:00 बजे

राष्ट्र के सक्ष्तिकरण के लिए महिलाओं का सक्ष्तिकरण आवशयक है। यही मातृ राम्मेलन का उददेश्य है।

गंगा आरती

सायं 5 बजे

मोक्षदायनी गंगा कं तट पर दिव्य आरती की कल्पना का मूर्तरूप आयोजन

सांस्कृतिक कार्यक्रम

सायं 7:30 बजे

फिल्मी कलाकार श्री मनोज जोशी द्वारा चाणक्य नाटक का प्रस्तुतिकरन

17 दिसम्बर 2017

17 दिसम्बर 2017

मातृ - पितृ पूजन

प्रात: 10:00 बजे

माता, पिता देवताओं कं तुल्य पूजनीय हैं। परम्यरायॅ आदर भाव वढाती हैं। यह परमारा पुनस्थापित हो, परिवारों को बचाने के लिये यह अावश्यक है।

परमवीर वदन एवं समापन

सायं 4:30 बजे

देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों को न्योछावर करने वाले वीर सैनिकों का स्मरण करतै हुए मेले का समापन होगा।

LATEST NEWS

Vande Matram